بصیرت سیاسی اجتماعی

अमोनिया गैस प्लांट
लेबनान के हिज़्बुल्लाह संगठन के महासचिव ज़ायोनी शासन के ख़िलाफ़ एक नई परमाणु रणनीति तैयार कर रहे हैं।
फ़िलिस्तीन का तीसरा इन्तिफ़ाज़ा
फ़िलिस्तीनियों पर इस्राईली अत्याचार के विरुद्ध जारी प्रतिरोध और फ़िलिस्तीन के तीसरे इन्तेफ़ादा (क्रांति) के बारे में अरब देशों के साथ साथ विश्व कि भिन्न देशों ने अलग अलग प्रतिक्रियाएं दी हैं।
सन 1979 में ईरान में क्रांति सफल हुई और ढाई हज़ार साल से जारी राजशाही का अंत हो गया, लेकिन इस राजशाही के अंत के साथ ही अमरीका और इस्राईल के लिए ईरान नामक "दुधारू गाय" ने दूध देना भी बंद कर दिया।
ईरान के विरुद्ध सऊदी अरब को सभी मोर्चों पर पीछे हटना पड़ा हैः
ब्रिटिश पत्रिका एक्नोमिस्ट ने अपने एक नोट में लिखा, सऊदी अरब ने अगरचे पिछले एक साल के दौरान “आक्रामक राजनीति” अपनाई लेकिन उसके बावजूद उसके ईरान के मुकाबले में करारी हार झेलनी पड़ी है।
चेहलुम हमें क्या सिखाता है?
जनाबे ज़ैनब और दूसरे लोगों के करबला में जमा होने और चेहलुम मनाने का मक़सद यह था कि लोगों को बताया जाए कि इमाम हुसैन (अ) ने इतनी बड़ी क़ुरबानी क्यों कर दी, बनी उमय्या औऱ यज़ीद का असली चेहरा दिखाया जाए यहीं से “तव्वाबीन” का आन्दोलन शुरू हुआ
आदर्श परिवार की विशेषताएं
संतुलित परिवारों में कार्यों में सहयोग एवं सहकारिता को भी महत्व प्राप्त होता है। वे घर के कार्यों में एक-दूसरे का सहयोग करते हैं। इस बारे में मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि यदि विभिन्न विषयों के बारे में अपने जीवनसाथी के दृष्टिकोणों को दृष्टिगत रखा जाए और भ
अहंकार और उससे होने वाले नुक़सान
हम जानते हैं कि ईश्वरीय दरबार से शैतान के निकाले जाने का मुख्य कारण अहंकार ही था। इब्लीस फ़रिश्तों में नहीं था किन्तु ईश्वरीय आदेश के पालन के कारण वह उस स्थान पर पहुंच गया था जो फ़रिशतों से विशेष था किन्तु उसने जो स्थान प्राप्त किया था उसे अहंकार के कारण
खेलकूद और व्यायाम का महत्व
स्वस्थ मनोरंजन एवं ख़ाली समय को भरने के लिए इस्लाम व्यायाम एवं खेलकूद की सिफ़ारिश करता है। आप एक दिन में या एक सप्ताह में या एक महीने में अपना कितना समय व्यायाम एवं खेलकूद में बिताते हैं...
ईरान जाने वाले एक हिन्दु की आपबीती
आज कुछ वहाबी मुल्कों की घिनौनी हरकतों की वजह से पूरे इस्लामिक जगत के मुल्कों के बारे में आम जनता के बीच में कुछ गलत धारणाएं बन गयी हैं जो कि बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है। कुछ चंद देशों की गलत करतूतों की वजह से...
आयतुल्लाह सीस्तानी और ईद के चाँद पर मचा बवाल
चाँद का देखा जाना इस्लामी फ़िक़्ह का बहुत ही अहम मसअला है जिसके बारे में हमारे मराजे और विद्वानों ने बहुत सी किताबें लिखी हैं, और इस्लामी शरीअत के बहुत से काम जैसे रमज़ान के रोज़े, हज, ईद, बक़्रईद शबे क़द्र जैसी चीज़ें चाँद से ही साबित होती हैं
यमन में जारी जनसंहार पर विश्व समुदाय की चुप्पी शर्मनाक
सयुंक्त राष्ट्र द्वारा जारी एक लिस्ट बताती है कि 2015 में बच्चों के ऊपर पूरे विश्व में होने वाले हमलों में से 60 प्रतिशत अकेले सऊदी फौज ने यमन के बच्चों पर किये हैं। इसके बाद सऊदी अरब ने धमकी भरे अंदाज में संयुक्त राष्ट्र से कहा कि या तो संयुक्त राष्ट्र