इस्लाम का दम भरने वाला सऊदी अरब अब इस्राईल को तेल बेचेगा

सऊदी अरब का तेल
तेल की गिरती कीमतो के कारण सऊदी अरब आर्थिक संकट से जूझ रहा है, इसी संकट को नियंत्रित करने के लिए सऊदी अरब अगले महीने से इस्राईल को तेल निर्यात करेगा।

 

ओपेक में सऊदी अरब के प्रतिनिधि ने कहा है कि: रियाज़ हर दिन पाँच लाख बैरल तेल का उत्पादन कम करने के अपने समझौते पर बाध्य रहेगा और मई में उसे बढ़ाने का कोई इरादा नहीं है।

सऊदी अरब के पेट्रोलियम मंत्री खालिद अलफ़ालेह ने अबू धाबी में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि: सऊदी अरब की कंपनी आरामको तेल उत्पादन में वृद्धि की जगह नए बाज़ार की तलाश में है, और इस समय इस्राईल उपयुक्त बाजार है, क्योंकि इस्राईल सिनाई में अशांति के कारण अब पहले की तरह मिस्र से गैस का आयात नहीं नहीं कर सकता है।

सऊदी मंत्री के अनुसार सऊदी अरब के राजा सभी देशों से अच्छे संबंध स्थापित करना चाहते हैं और इस्राईल भी इस बात से कोई अपवाद नहीं है। उन्होंने बताया कि उनका देश जिसको चाहे तेल बेच सकता है चाहे वह इस्राईल ही क्यों न हो, और सस्ते दामों पर तेल का निर्यात तेल अवीव और रियाज़ के संबंधों में एक बड़ा कदम होंगा।

उन्होंने कहा: पिछले साल से इस्राईल के साथ तेल की बिक्री के मामले में बातचीत की जा रही हैं, और यह तय हुआ है कि अगले (मई) महीने से हैफ़ा की रिफाइनरी को तेल की आपूर्ति शुरू कर दी जाएगी।

विशेषज्ञों सऊदी अरब के इस बयान को इस्राईल द्वारा जारी यहूदी देश के गठन को कोशियों को मान्यता देने को तौर पर देख रहे है।

विकि लीक्स के अनुसार सऊदी अरब के इस फैसले के बाद यह देश इराक के कुर्दिस्तान और नाइजीरिया के बाद इस्राईल को तेल निर्यात करने वाला तीसरे नंबर का देश बन जाएगा।

اشتراک گذاری: 

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.