सीरिया
सुरक्षा सूत्रों ने सीरिया में हलब शहर के पास फूआ व कफ़रिया क्षेत्र में धमाके की ख़बर दी है।
इमाम मोहम्मद तक़ी
दस रजब सन 195 हिजरी क़मरी को पैग़म्बरे इस्लाम के पौत्र इमाम मोहम्मद तक़ी अलैहिस्सलाम का जन्म हुआ और मानव जाति के मार्गदर्शन का एक और सूर्य जगमगाने लगा
रजब के आमाल
ग़ौरतलब है कि इस्लामी कैलेंडर में रजब, शाबान और रमज़ान के महीनों को बहुत अहमियत हासिल है और बहुत सी रिवायतों में इनकी श्रेष्ठता और फ़ज़ीलत के बारे में बयान हुई हैं। जैसा कि पैग़म्बरे इस्लाम...
अय्यामे बीज़ के आमाल
रजब के महीने की 13, 14 और 15 तारीख़ के अय्यामे बीज़ कहा जाता है, इन दिनों की बहुत फज़ीलत बयान की गई है, इन दिनों के कुछ ख़ास आमाल है जिनको अंजाम देना बहुत सवाब रखता है।
टोयोटा और दाइश
जब ब्रिटिश समाचार पत्र इंडिपेंडेंट ने सीरिया और मध्य पूर्व की जंग को “सोने की खान” बताया और अमरीकी समाचार पत्र वाशिंगटन पोस्ट ने हथियार निर्माता कंपनियों के शेयरों की क़मीतें बढ़ने क बारे...
इमाम अली नक़ी की शहादत
वर्ष 254 हिजरी क़मरी के रजब महीने की तीसरी तारीख़ पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम के एक अन्य पौत्र की शहादत की याद दिलाती है।
रजब की दुआ
रजब के महीने में यह दुआ रोज़ाना की नमाज़ों के बाद ताक़ीबात के तौर पर पढ़ी जाती है
रजब के आमाल
रजब के महीने की पहली रात बहुत ही बरकतों वाली है, इस रात में कुछ आमाल बताए गए हैं जिनको करने का बहुत सवाब है, वह आमाल यह हैं...
लैलतुल रग़ाएब
रजब महीने की पहली शबे जुमा (गुरुवार की रात) को लैलतुर रग़ाएब कहा जाता है यानी आर्ज़ूओं और कामनाओं की रात ...
न्याय, हिंदी किताब (pdf)
न्याय, हिंदी किताब (pdf)
किताब, यह हक़ीक़त है
किताब, यह हक़ीक़त है/ pdf फाइल
इस्लाम के मूल सिद्धांत
इस पुस्तक में शिया अक़ीदों के बारे में महान मरजए तक़लीद और दार्शनिक आयतुल्लाह शेख़ मिसबाह यज़दी ने बहुत ही तार्किक तरीक़े से बयान किया है, इस किताब में हम इंसान को पैदा किए जाने के लक्ष्य,...
हमारे अक़ीदे हिन्दी किताब डाउनलोड करें (pdf हिंदी)
इस किताब के लेखक महान धर्मगुरु और अरजए तक़लीद आयतुल्लाह मकारिम शीराज़ी हैं, उन्होंने इस किताब में शिया अक़ीदों और विश्वासों के बारे में बहुत ही संक्षेप में तार्किक तरीक़े से बताया है।
सच्चा अज़ादार किताब डाउनलोड करें (pdf हिंदी)
सच्चा अज़ादार कौन, हिंदी किताब
इमाम ख़ुमैनी का दैविक-राजनीतिक मृत्युलेख
यह वसीयतनामा न केवल इसलिए महत्वपूर्म है कि यह स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी की अंतिम इच्छा है बल्कि यह एक ऐसा महान "क्रांतिलेख" है जिसको पढ़कर संपूर्ण इस्लामी क्रांति के अस्तित्व व उद्देश्य, उसके...
दीवान -ए- इमाम ख़ुमैनी
इमाम खुमैनी की प्रासंगिक , आध्यात्मिक रचनाएं उनकी महानता की घोतक हैं जिन्हें “सूरए अलहम्द” “आदाब अल सलात” “मिसबाह अल हिदाया” “इलल ख़िलाफ़ा व अल विलाया” “अरबईन” (चालीस हदीसें) “शरहे दुआए सहर...
उम्मुल बनीन
यह एक तरह का चिल्ला है जो किताबे “इल्मे जिफर” में लिखा है जिस को नमाज़े सुबह के बाद या फिर नमाज़े इशा के बाद या अगर महीने के अरम्भ में करे तो सब से अच्छा है ।
वहाबियत की सच्चाई
मुसलमान वही है जो दूसरो कि सहायता करता है, यहीं से ये बात भी समझ में आती है कि मुसलमान किसी को नुक़सान नही पहुँचाता, अब अगर कोई किसी को नुक़सान पहुँचाकर ये समझता रहे कि वो मुसलमान है तो ये...
हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स.) का मरसिया
हज़रत फ़ातेमा ज़हरा पर दुखों के पहाड़ कब से टूटना आरम्भ हुए इसके बारे में यही कहा जा सकता है कि जैसे ही पैग़म्बरे इस्लाम ने इस संसार से अपनी आखें मूंदी, मुसीबतें आना आरम्भ हो गईं, और इन...
शहादते हज़रत ज़हरा
आज पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम के सुपुत्री हज़रत फ़ातेमा सलामुल्लाह अलैहा की शहादत की तिथि है। हज़रत फ़ातेमा सलामुल्लाह अलैहा वह हस्ती हैं जिन्होंने महानता व...
फ़ातेमा ज़हरा सलामुल्लाहे अलैहा का जीवन परिचय
हज़रत फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा के पिता पैगम्बर हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा व आपकी माता हज़रत ख़दीजातुल कुबरा पुत्री श्री ख़ोलद हैं। हज़रत ख़दीजा वह स्त्री हैं,जिन्होने सर्व- प्रथम इस्लाम को...
 हज़रत फ़ातेमा ज़हरा की फ़ज़ीलतें अहले सुन्नत की किताबों से
रसूले की इकलौती बेटी और इमामत एवं रिसालत को मिलाने वाली कड़ी, वह महान महिला जिसकों सारी दुनियां की औरतों का सरदार कहा गया, रसूल जिसका इतना सम्मान करते थे कि आपने म्मेअबीहा यानी अपने बाप की...
सही बुख़ारी और मुस्लिम में हज़रत फ़ातेमा ज़हरा के मसाएब
सही बुख़ारी और मुस्लिम में हज़रत फ़ातेमा ज़हरा के मसाएब
फ़िदक छीनने पर हज़रत फ़ातेमा (स) का अबूबक्र पर क्रोधित होना
जब पहले ख़लीफ़ा ने उनको फ़िदक वापस नहीं दिया और यह हदीस पढ़ी कि पैग़म्बर ने फ़रमाया है कि हम अंबिया मीरास नहीं छोड़ते हैं और जो कुछ छोड़ते हैं वह सदक़ा है तो आप बहुत क्रोधित होती हैं और...
फ़िदक क्या है और पैग़म्बर को कैसे मिला?
हमको यह जान लेना चाहिए कि फ़िदक एक बहुत ही आबाद और उपजाऊ धरती थी जो यहूदियों की सम्पत्ती थी, हिजाज़ में कुछ यहूदी रहते थे और वह पैग़म्बर के आने की प्रतीक्षा कर रहे थे जैसा कि स्वंय क़ुरआन...
मीलादुन्नबी, 17 रबीउल अव्वल
सुन्नी मुसलमानों के अनुसार रसूले ख़ुदा का जन्म 12 रबीउल अव्वल को हुआ था जबकि शियों का मानना है कि हज़रत का जन्म 17 रबीउल अव्वल को हुआ था। इसलिए ईरान में शिया और सुन्नी विद्वानों के...
क्या पैग़म्बरे इस्लाम पर सलाम पढ़ना शिर्क है?
आज के युग में यह वहाबी टोला और उसके साथियों ने क़सम खा रखी है कि मुसलमानों की हर आस्था और उनके हर विश्वास पर टिप्पणी अवश्य करेंगे चाहे वह सही हो या न हो, और कितने आश्चर्य की बात है कि यह सब...
हज़रत मोहसिन की शहादत कैसे हुई, जानें शिया और सुन्नी किताबों से
शिया और सुन्नी स्रोतों में मौजूद ऐतिहासिक दस्तावेज़ों से पता चलता है कि हज़रत मोहसिन इमाम अली और हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स.) की संतान थे जो दूसरे ख़लीफ़ा उमर या क़ुनफ़ुज़ द्वारा हज़रत फ़ातेमा...
इमाम सादिक़ (अ) की संक्षिप्त जीवनी
सुन्नी समुदाय के प्रसिद्ध विद्वान अबु हनीफ़ा कहते हैं कि मैं ने हज़रत इमाम सादिक़ अलैहिस्सलाम से बड़ा कोई विद्वान नही देखा। वह यह भी कहते हैं कि अगर मैं हज़रत इमाम सादिक़ अलैहिस्लाम से दो...
इमाम सादिक़ (अ) की सियासत
इमाम जाफ़र सादिक़ (अ) के युग में बनी उमय्या और बनी अब्बास के बीच सत्ता प्राप्त करने के लिए खींचा तानी चल रही थी, और इस मौक़े से लाभ उठाते हुए इमाम सादिक़ (अ) और आपके पिता इमाम बाक़िर (अ) ने...
इमाम हसन अस्करी (अ) की कुछ मार्गदर्शक हदीसें
हज़रत इमाम हसन अस्करी अलैहिस्सलामने कहा कि समस्त बुराईयों को एक कमरे मे बन्द कर दिया गया है, व इस कमरे की चाबी झूट को बनाया गया है। अर्थात झूट समस्त बुराईयों की जड़ है।
इमाम हसन अस्करी की शहादत पर विशेष
हज़रत इमाम हसन अस्करी अलैहिस्सलाम ने अपने जीवन में कुल 28 बसंत देखे किन्तु इस छोटी सी ज़िन्दगी में भी उन्हों ने पवित्र क़ुरआन की आयतों की व्याख्या और धर्मशास्त्र पर आधारित अपनी यादगार रचना...
ख़ुत्ब ए फ़िदक का हिन्दी अनुवाद
और तुम यह समझते हो कि हम अहलेबैत का मीरास में कोई हक़ नहीं है! क्या तुम लोग जाहेलियत का आदेश जारी कर रहे हो?! और ईमान वालों के लिए ईश्वरीय आदेश से बेहतर क्या आदेश हो सकता है? क्या तुम लोग...
फ़िदक कैसे छीना गया?
हैसमी अपनी पुस्तक मजमउज़्ज़वाएद की जिल्द 9 पेज 40 पर लिखता हैः फ़िदक को फ़ातेमा (स) से लेने से पहले दूसरे ख़लीफ़ा (हज़रत उमर) अमीरुल मोमिनीन हज़रत अली(अ) के पास जाते हैं और आपसे पैग़म्बर (स...
फ़िदक किसकी प्रापर्टी है?
सोंचने की बात है कि अरब का वह रेगिस्तान कि जहां अगर ज़मज़म जैसा एक चश्मा जारी हो जाए तो वहां पूरी एक बस्ती आबाद हो जाती है अलग अलग स्थानों से लोग रहने के लिए आ जाते हैं तो अगर किसी स्थान पर...