दाइश ने गल्ती से इस्राईल पर किया हमला, मांगी माफ़ी, पर चुप है इस्राईल

इजरायल
जिन क्षेत्रों में सीरियाई सेना का क़ब्ज़ा है उस तरफ़ से हम पर हमले होते रहते हैं, लेकिन एक बार दाइश के एक ठिकाने की तरफ़ से हम पर हमला हुआ जिसके तुरंत बाद आधिकारिक रूप से उन्होंने हम से माफ़ी मांगी।

 

ज़ायोनी अधिकारियों ने इस्राईल के पूर्व युद्ध मंत्री मूसा यअलून के उस रहस्योद्घाटन पर अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है जिसमें उन्होंने कहा था कि आतंकवादी संगठन ने अधिग्रहित गोलान पर मीज़ाइल हमला करने के बाद आधिकारिक रूस से इस्राईल से माफ़ी मांगी थी।

ज़ायोनी सेना से जब तुर्की की न्यूज़ एजेंसी अनाज़ूल ने इस बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाही तो सेना ने उसके जवाब में कुछ भी कहने से मना कर दिया।

इसी के साथ साथ यमआन के रहस्योद्घाटन पर अफ़ूला शहर के किसी मंत्री या अधिकारी ने भी कुछ नहीं कहा है।

यअलून ने कहा था किः जिन क्षेत्रों में सीरियाई सेना का क़ब्ज़ा है उस तरफ़ से हम पर हमले होते रहते हैं, लेकिन एक बार दाइश के एक ठिकाने की तरफ़ से हम पर हमला हुआ जिसके तुरंत बाद आधिकारिक रूप से उन्होंने हम से माफ़ी मांगी।

तीक़ून ऊलान संस्था की रिपोर्ट के अनुसार यअलून ने इस हमले के समय और यह कि यह हमला किस प्रकार का था कुछ नहीं कहा है।

इस्राईल की सेना ने अब तक आधिकारिक पूर से इस्राईल के क़ब्ज़े वाले गोलान पर दाइश के हमले के बारे में कुछ नहीं कहा है।

बताया जा रहा है कि पिछले कुछ सालों में इस्राईल के कब्ज़े वाले गौलान पर कई बार मीज़ाइल हमला हो चुका है।

इस्राईली सेना का कहना है कि इन हमलों में से अधिकतर सीरियन आर्मी से जारी संघर्ष के कारण होते हैं।

اشتراک گذاری: 

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.