इस्राईली जेलों में फ़िलिस्तीनी क़ैदियों की दयनीय स्थिति+आंकड़े

इजरायल की जेल
एक नई रिपोर्ट प्रकाशित की गई है जिसमें इजरायली जेलों में कैदियों की संख्या में वृद्धि और उनकी बुरी हालत का बताया गया है।

 

इस रिपोर्ट में फिलीस्तीनी कैदियों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रकाशित की गई हैं रिपोर्ट बताती है कि इजरायली जेलों में फिलीस्तीनी और गैर फिलीस्तीनी कैदियों की संख्या में वृद्धि हो गई है, इस रिपोर्ट में कदियों दयनीय स्थिति के बारे में विशेष रूप से खबर दी गई है।

इस रिपोर्ट के अनुसार, इजरायल जेलों में 7 हजार फिलीस्तीनी कैदी हैं, जिनमें से 330 गाजा से 680 कुद्स (यरूशलेम) से 1948 अधिकृत फ़िलिस्तीन से 6 हजार पश्चिमी तट से, 34 विभिन्न अरब देशों, और दो व्यक्तिय गोलान के मौजूद हैं ।

इनमें से 600 को बिना किसी मुकदमे के कैद में रखा गया है, 2 हजार से पूछताछ जारी है, 430 को सजा सुनाई गई है और 500 लोगों को बेवजह लंबी अवधि की सजा दी गई है।

इजरायली जेलों में बंद कैदियों में 58 महिलाएं भी शामिल हैं, जिनमें 15 क़ैदियों कम कम आयु की हैं, 13 घायल हैं, और 30 को कैद की सजा सुनाई गई है।

इन कैदियों में 320, 18 साल से कम उम्र के हैं, 3 को अस्थायी रूप से कैद किया गया है, 270 को सजा सुनाई गई है, और 47 पर केस चल रहा है।

उल्लेखनीय है कि इजरायली जेलों में 1967 से कैदियों की शहादत (मौत) का सिलसिला चलता आ रहा है और अब तक मरने वाले फ़िलिस्तीनियों की संख्या 210 हो गई है, उनसे 72 हिंसा की वजह से, 57 को चिकित्सा सुविधाएं न मिलने की वजह से, 74 की हत्या कर दी गई और 7 गोली मार कर शहीद कर दिया गया है।

इन कैदियों में 1200 बीमार हैं, 34 विकलांग, 21 को कैंसर है, 2 को हेपेटाइटिस, 17 को दिल की बीमार हैं, और 19 रमल्ला के अस्पताल में ऐडमट हैं।

इनमें से कुछ कैदियों को जेल में बंद काफी समय बीत चुका है इनमें से, 9 को 30 साल हो गए हैं, 21 को 25 साल से अधिक हो गए हैं। और 29 व्यक्तियों 1994 के “इस्लो” अनुबंध के पहले से जेल में हैं।

बताते चलें कि इसराइल ने वार्ता में इन क़ैदियों की स्वतंत्रता की शर्त का विरोध किया है।

इन कैदियों में 13 फिलिस्तीनी संसद प्रतिनिधि भी शामिल हैं, इन लोगों में 4 अस्थायी जेल में रखा गया है, 2 को उम्रकैद, 6 को बिना मुकदमे के कारावास में रखा हुआ है।

اشتراک گذاری: 

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.