सगी बहनों से भी कर सकते हो शादीः वहाबी मुफ़्ती

बहनों से भी कर सकते हो शादीः वहाबी मुफ़्ती
वहाबी मुफ़्ती "नासिर अल उमर" ने सीरिया के आतंकियों को उनकी बहनों से शादी करने का फ़तवा दिया है। उसने कहा कि कुछ लोग "जेहादे निकाह" के फ़तवे की निंदा कर रहे हैं लेकिन वह सीरिया में मरने वाले बेगुनाह औरतों और बच्चों की मौत के विरोध में क्यों नही बोलते हैं?

वहाबी मुफ़्ती "नासिर अल उमर" ने सीरिया के आतंकियों को उनकी बहनों से शादी करने का फ़तवा दिया है। उसने कहा कि कुछ लोग "जेहादे निकाह" के फ़तवे की निंदा कर रहे हैं लेकिन वह सीरिया में मरने वाले बेगुनाह औरतों और बच्चों की मौत के विरोध में क्यों नही बोलते हैं??

अलख़बर चैनल के अनुसार इस वहाबी मुफ़्ती ने वेसाल नामक चैनल पर "जेहाद निकाह" फ़तवे की निंदा करने वालों की कड़ी आलोचना की हैं।

उसने कहा कि कुछ लोग जिहादियों (आतंकियों) को अपनी बहनों से शादी करने की इजाज़त देने वाले फ़तवे की निंदा कर रहे हैं, लेकिन आश्चर्य की बात है यह कि कोई भी सीरिया की फ़ौज द्वारा किये जाने वाले नरसंहार पर नही बोल रहा है।

उसने सीरिया में होने वाले अत्याचारों के लिए ईरान और सीरिया की सरकार को दोषी ठहराया और कहा कि यह दोनों देश यहां शिया हुकूमत लाना चाहते हैं और यह नही चाहतें हैं कि इस क्षेत्र में सुन्नियों का कोई रोल रह जाए।

मुसलमानाने जहान नामक साइट ने लिखाः "नासिर अल उमर" ने अपनी बातों में कहा कि सीरिया के मुजाहिद नामहरम मुजाहिद औरतों के ना होने की सूरत में अपने महरमों से शादी कर सकते हैं। उसने ऐलान किया कि अगर नामहरम तक पहुँचना आसान ना हो तो मुजाहित अपनी बहनों से भी शादी कर सकते हैं

ध्यान देने योग्य बात है कि यह वहाबी अपने आप को सच्चा मुसलमान और इस्लाम का हामी दिखाते हैं और कहते हैं कि उनके अलावा सब "काफ़िर" हैं और वह दुनिया में इस्लाम के नाम पर और इस्लाम का झंडा ऊँचा करने के लिए जेहाद कर रहे हैं।

लेकिन आश्चर्य की बात है कि इस्लाम का दम भरने वाले मुफ़्तियों को इतना भी नही पता कि यह फ़तवा सरासर क़ुरआने मजीद के विरुद्ध है क़ुरआन के सूरा निसा की 23वीं आयत में साफ़ साफ़ कहा गया है कि तुम्हारी बहने और महरम लोग तुम पर हराम किये गए हैं और तुम उनसे शादी नही कर सकते

दुनिया के मुसलमानों होशियार क्या यह वहाबी वास्तव में मुसलमान हैं???????????????????

حُرِّمَتْ عَلَيْكُمْ أُمَّهَاتُكُمْ وَبَنَاتُكُمْ وَأَخَوَاتُكُمْ وَعَمَّاتُكُمْ وَخَالاَتُكُمْ وَبَنَاتُ الأَخِ وَبَنَاتُ الأُخْتِ وَأُمَّهَاتُكُمُ اللاَّتِي أَرْضَعْنَكُمْ وَأَخَوَاتُكُم مِّنَ الرَّضَاعَةِ وَأُمَّهَاتُ نِسَآئِكُمْ وَرَبَائِبُكُمُ اللاَّتِي فِي حُجُورِكُم مِّن نِّسَآئِكُمُ اللاَّتِي دَخَلْتُم بِهِنَّ فَإِن لَّمْ تَكُونُواْ دَخَلْتُم بِهِنَّ فَلاَ جُنَاحَ عَلَيْكُمْ وَحَلاَئِلُ أَبْنَائِكُمُ الَّذِينَ مِنْ أَصْلاَبِكُمْ وَأَن تَجْمَعُواْ بَيْنَ الأُخْتَيْنِ إَلاَّ مَا قَدْ سَلَفَ إِنَّ اللّهَ كَانَ غَفُورًا رَّحِيمًا

 

यह भी देखें: पति की जानकारी के बिना पत्नी कर सकती है सेक्स जिहादः वहाबी प्रचारक

यह भी देखें सेक्स जेहाद की गोल्ड मेडलिस्ट 1000 लोगों के साथ बनाएं संबंध 

टिप्पणियाँ

NAHI YEH MUSLIM NAHI HO SAKTA KYUKI MUSLIM KABHI MAHRAM SE NIKHA NAHI KARSAKTA AUR WOH BHI APNI SAGI BEHAN ALLHA HO AKBAR
लेकिन आश्चर्य की बात है कि इस्लाम का दम भरने वाले मुफ़्तियों को इतना भी नही पता कि यह फ़तवा सरासर क़ुरआने मजीद के विरुद्ध है क़ुरआन के सूरा निसा की 23वीं आयत में साफ़ साफ़ कहा गया है कि तुम्हारी बहने और महरम लोग तुम पर हराम किये गए हैं और तुम उनसे शादी नही कर सकते
Oh To Aapka Mattlab Aapki Behan Aapke Liye Haram Hai Ware Muslim Kya Soch Hai Tumahre Quran Ki
Isme koi hairat nhi qk wo bhi yazidi fatwa hi suna rha hai
Ye wahaabi mufti hote hi nahi hai.. aur agar inka islam se kuch rishta hota? To ye iski history ko pitane ki na kaam kosishe nahi karte!!! ISIS.. aur is jaise jitne KHOONI DARINDE HAI?? wo sab ke sab USA ke suporrt par aatankwaad phela rahe hai. Aur inko paise Saudi de raha hai. Kyo ke saudi me wahaabi huqumat abhi hai aur unka target islam ko aur iski history ko mitana hai..
Agar hame is dunya se terror ko khatam karna hai?? To hame is WAHAABI, DEOBANDI, KHAARJI, ideulogy ko khatam karna hoga.. !!! Ye Islam ke naam par khoon kharab!! Dosre mazhab ki aurto ka rape!! Wo sab batate hai!!! Agar kisi ko islam janna hai?? wo *IMAAM E HUSAIN* Ko dekhe.. unki zindagi dekhe..
Chehra musalmano ka bana kar musalmano ko badnaam aur gumraho ko aur gumrah karne ki koshish hai ye ...........lantullah alaiha
Lanat he inpe
Apne aap ko highlighted karne ke liye kuchh bhi bolte ho Galat baat

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.