दीवान -ए- इमाम ख़ुमैनी

दीवान -ए- इमाम ख़ुमैनी
इमाम खुमैनी की प्रासंगिक , आध्यात्मिक रचनाएं उनकी महानता की घोतक हैं जिन्हें “सूरए अलहम्द” “आदाब अल सलात” “मिसबाह अल हिदाया” “इलल ख़िलाफ़ा व अल विलाया” “अरबईन” (चालीस हदीसें) “शरहे दुआए सहर” “तालीक़ा बर फ़ुसुसुल हिकमा” “दीवाने असरार” (काव्य संकलन) तथा “इर

इमाम खुमैनी की प्रासंगिक , आध्यात्मिक रचनाएं उनकी महानता की घोतक हैं जिन्हें “सूरए अलहम्द” “आदाब अल सलात” “मिसबाह अल हिदाया” “इलल ख़िलाफ़ा व अल विलाया” “अरबईन” (चालीस हदीसें) “शरहे दुआए सहर” “तालीक़ा बर फ़ुसुसुल हिकमा” “दीवाने असरार” (काव्य संकलन) तथा “इरफ़ानी मकतूब” नामक पुस्तकों के आधार पर उनके वास्तविक चिंतन एवं धार्मिक विश्वासों का विश्लेषण किया जा सकता है।

दीवान -ए- इमाम ख़ुमैनी
اشتراک گذاری: 

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.