दाइश के क़ब्ज़े से सीरिया ने 125 गांव आज़ाद कराए

सीरियन आर्मी
सीरियाई सूत्रों ने पूर्वी हलब के दर्जनों आतंकियों के मारे जाने और इस सैन्य आप्रेशन के आरंभ से अब तक 125 गांव स्वतंत्र कराए जाने के बाद पूर्वी हलब के अलख़फ़सा रणनैतिक शहर में सेना के प्रविष्ट होने की सूचना दी है।

सीरियाई सूत्रों ने पूर्वी हलब के दर्जनों आतंकियों के मारे जाने और इस सैन्य आप्रेशन के आरंभ से अब तक 125 गांव स्वतंत्र कराए जाने के बाद पूर्वी हलब के अलख़फ़सा रणनैतिक शहर में सेना के प्रविष्ट होने की सूचना दी है।

दमिश्क़ से तसनीम न्यूज़ एजेन्सी ने रिपोर्ट दी है कि सीरिया की सेना की अग्रिंम पक्ति के टुकड़ी दर्जनों आतंकियों के ढेर करने के बाद पूर्वी हलब के अलख़फ़सा रणनैतिक शहर में प्रविष्ट हो गयी जबकि सेना हलब को पानी सप्लाई करने वाले पम्पिंग सिस्टम में प्रविष्ट होने की तैयारी कर रही है। सीरिया की सेना ने पम्पिंग सिस्टम क्षेत्र में प्रविष्ट होने के लिए कियारिया क्षेत्र को स्वतंत्र करा लिया था।

सीरियाई सेना के एक निकटवर्ती सूत्र ने बताया कि ख़फ़सा की स्वतंत्रता के लिए सूक्ष्म अभियान चलाया गया जो जनरल सुहैल अलहसन की कमान्ड में अंजाम दिया गया। इस अभियान के अंतर्गत ख़फ़सा क्षेत्र के पश्चिमी और उत्तरी गांवों को स्वतंत्र कराया गया और उसके बाद ख़फ़सा क्षेत्र में दाशइ के ठिकानों पर भीषण बमबारी की गयी और जब सेना को विश्वास हो गया कि दाइश की कमर टूट चुकी है और उसके दसियों आतंकियों मारे जा चुके हैं, तब उसने शहर में प्रविष्ट होना आरंभ किया जबकि शहर में बाक़ी बचे आतंकी दक्षिणी ओर, आसपास और मसकना शहर की ओर भाग गये।

एक सैन्य सूत्र ने तसनीम न्यूज़ एजेन्सी से बात करते हुए कहा कि पूर्वी हलब में सेना ने अपने अभियान में विशेष तकनीक अपनाई है जिसमें एक ओर से भीषण बमबारी की जाती है और दूसरी ओर थल सेना धीरे धीरे कई ओर से लक्ष्य की ओर बढ़ती रहती है। इस तकनीक से आतंकियों को भारी नुक़सान पहुंचा, आतंकी बौखला गये और उनकी रक्षा पंक्ति थोड़ी ही देर में ध्वस्त हो जाती है और वह या तो मारे जाते हैं या फ़रार होने पर विवश हो जाते हैं। इस प्रकार से सीरिया की सेना ने कई वर्ष में पहली बार बहुत ही कम समय में पूर्वी ख़फ़सा की दो झीलों के निकट पहुंच गयी है।

اشتراک گذاری: 

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.