अरब-इस्राईल युद्ध अरब-अरब युद्ध में बदल गया है!

इस्राईल और सऊदी अरब
लेबनान के राष्ट्रपति जनरल मीशल औन ने इस बात की तरफ़ इशारा करते हुए कि आज दुनिया तीसरे विश्व युद्ध के मुहाने पर है कहा ज़ायोनी विचारधारा अरब-इस्राईल युद्ध को अरब-अरब युद्ध में बदलने में कामयाब रही है।

लेबनान के राष्ट्रपति जनरल मीशल औन ने इस बात की तरफ़ इशारा करते हुए कि आज दुनिया तीसरे विश्व युद्ध के मुहाने पर है कहा ज़ायोनी विचारधारा अरब-इस्राईल युद्ध को अरब-अरब युद्ध में बदलने में कामयाब रही है।

लेबनान की सरकारी न्यूज़ एजेंसी के अनुसार मीशल औन ने क़ाहेरा में अरब लीग के आफ़िस में अरब लीग के महासचिव अहमद अबुलग़ैज़ से मुलाक़ात की

उन्होंने अरब लीग के सदस्य देशों के राजदूतों के सामने भाषण देते हुए कहाः दुनिया इस समय बहुत ही ख़तरनाक मोड़ पर खड़ी है और हम लोग तीसरे विश्व युद्ध के मुहाने पर खड़े हैं जिसके ख़तरों से कोई भी देश और क़ौम बच न पाएगी।

उन्होंने इस युद्ध के का कारण आतंकवाद को बताया जो किसी भी धर्म से संबंधित नहीं है और केवल मानवता को समाप्त करना चाहती है।

उन्होंने कहाः 1945 में अरब लीग का गठन हुआ और उसक संविधान पारित हुआ अगर हम उसके संविधान का सम्मान करते तो अरब क़ौमें आज की इस बेकार की जंग से दूर होते।

उन्होंने यह कहते हुए कि “क्या हम मस्जिदु अलक़सा और पुराने चर्च के बिना क़ुद्स के बारे में सोच सकते हैं”? कहाः इस्राईल द्वारा फ़िलिस्तीन को यहूदी बनाए जाने से बचान के लिए हमको ईसाई इस्लामी क़ुद्स को केन्द्र में रखते हुए सारा ध्यान क़ुद्स की तरफ़ केन्द्रित करना होगा।

 

اشتراک گذاری: 

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.