अमीरुल मोमिनीन का अपने हक़ पर चुप रहना