बनी उमय्या मुआविया का इमाम अली पर सब व शतम

बनी उमय्या समर्थक नासबी कहते हैं किसी सहाबी के गलत कामों को बयान करना कुफ्र है. और उनकी आलोचना करना कुफ्र है. और इसीलिए शिया काफ़िर है अगर कुफ्र का मेयार वाकई किसी सहाबी की आलोचना करना ही है तो सबसे बड़े काफ़िर बनी उमय्या हुए जो लंबे समय तक सहाबी अली इब्न
संलग्नीआकार
फ़ाइल 13142-f-hindi.mp441.98 मेगा बाइट

नई टिप्पणी जोड़ें

Fill in the blank.